Hubstd.in

Big Study Platform

  • Home
  • /
  • अपठित गद्यांश कक्षा 10 With Answer

राष्ट्र का स्वरूप | कक्षा-10 साहित्यिक गद्यांश (450 से 700 शब्द)

धरती माता की कोख में जो अमूल्य निधियाँ भरी हैं, जिनके कारण यह वसुन्धरा कहलाती है, उनसे कौन परिचित न होना चाहेगा? लाखों-करोड़ों वर्षों से अनेक प्रकार की धातुओं को पृथ्वी के गर्भ में पोषण मिला है। दिन-रात बहनेवाली नदियों ने पहाड़ों को पीस-पीसकर अगणित प्रकार की मिट्टियों से पृथ्वी की देह को सजाया है।

मातृभाषा का महत्त्व | कक्षा-10 साहित्यिक गद्यांश (450 से 700 शब्द)

हमने मातृभाषा का अनादर किया है। इस पाप का कड़वा फल हमें जरूर भोगना पड़ेगा। हममें और हमारे घर के लोगों के बीच कितना ज्यादा व्यवधान पैदा हो गया है, इसके साक्षी इस सम्मेलन में आनेवाले हम सभी हैं। हम जो कुछ सीखते हैं, वह अपनी माताओं को नहीं समझाते और न समझा सकते हैं।

धार्मिक शिक्षा का महत्व | कक्षा-10 साहित्यिक गद्यांश (450 से 700 शब्द)

धार्मिक शिक्षा के सन्दर्भ में धर्म को सीमित अर्थ में नहीं लिया जाना चाहिए। इसका अर्थ मानव-धर्म या विश्वधर्म है जो ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ का भाव अपने में निहित रखता है। इसका अभिप्राय उस धर्म से है जो ‘सर्वे भवन्तु सुखिनः, सर्वे सन्तु निरामयाः’ का सन्देश देता है। धर्म एक उच्च मानवीय अनुशासन है जो व्यक्ति को संस्कारवान् बनाता है।

downlaod app