Hubstd.in

Big Study Platform

  • Home
  • /
  • Other
  • /
  • आपदाओं का वर्गीकरण और प्राथमिक चिकित्सा?
(2.3★/4 Votes)

आपदाओं का वर्गीकरण और प्राथमिक चिकित्सा?

एक आपदा एक छोटी या लंबी अवधि में होने वाली एक गंभीर समस्या है जो व्यापक मानव, सामग्री, आर्थिक या पर्यावरणीय नुकसान का कारण बनती है जो प्रभावित समुदाय या समाज की अपने संसाधनों का उपयोग करने की क्षमता से अधिक होती है। मैं आमतौर पर उन्हें तकनीकी, प्राकृतिक और मानव-कारण के रूप में वर्गीकृत देखता हूं। अक्सर, एक प्राकृतिक आपदा किन्हीं दो या तीनों के संयोजन से उत्पन्न या तेज हो सकती है। कुछ लोग यह भी कहते हैं कि ग्रह के बाहर से आने वाली आपदाओं (कॉस्मिक किरणें, सीएमई, उल्कापिंड) को चौथी श्रेणी बना दिया जाना चाहिए।

आपदा से आप क्या समझते? | Aapda kise kahate hain

मानव सभ्यता के विकास के साथ साथ प्राकृतिक आपदाओं का इतिहास भी बहुत पुराना है। प्राकृतिक खतरों का प्रभाव जब मानव पर होने लगता है तो इसे प्राकृतिक आपदा के नाम से जाना जाता है। इसके साथ-साथ अवैज्ञानिक एवं अनियोजित विकास के कारण मानव जनित आपदाओं का भी आरंभ हुआ। आज संपूर्ण विश्व इन प्राकृतिक एवं मानव जनित आपदाओं से प्रवाहित हो रहा है।

अतः ऐसी घटनाएं जो सामाजिक पर्यावरण का ह्रास करती हो, लोगों के प्रतिरोध करने की सामर्थ्य से अधिक हो तथा बाहरी सहायता की मांग करती हो आपदा कहलाती है। भूकंप, सुनामी, बाढ़, भूस्खलन, तूफान, जंगल की आग, सूखा और ज्वालामुखी विस्फोट प्राकृतिक आपदाओं के कुछ उदाहरण हैं। इस तरह की आपदाओं से बड़े पैमाने पर जान-माल का नुकसान होता है, और कई अन्य दुख होते हैं।

आपदा एक अवांछित विनाशकारी घटना है। यह समाज के प्राकृतिक कामकाज को गंभीर रूप से बाधित करता है। यह मनुष्यों को नुकसान के साथ-साथ भारी आर्थिक और पर्यावरणीय नुकसान का कारण बनता है। यह नुकसान समाज की फिर से भरने की क्षमता से अधिक है।

आपदाओं का वर्गीकरण और प्राथमिक चिकित्सा
आपदाओं का वर्गीकरण और प्राथमिक चिकित्सा

प्रकृति में, मनुष्य विभिन्न जलवायु और भौगोलिक परिस्थितियों में बस गया है और हजारों वर्षों में, मनुष्य ने खुद को औसत परिस्थितियों में अपनाया है। मानव ने विभिन्न जलवायु प्रभावों और विभिन्न भौगोलिक परिस्थितियों का मुकाबला करने के लिए विभिन्न तंत्र विकसित किए हैं, लेकिन मनुष्यों को केवल उन क्षेत्रों में बसने की जरूरत है जहां मनुष्यों के लिए विभिन्न जीवन समर्थन प्रणालियों को विकसित करने और विकसित करने के लिए भोजन, पानी और जीवन की आसानी है। धीरे-धीरे, आर्थिक कारकों ने हस्तक्षेप किया और तकनीकी उपयोग के माध्यम से, मनुष्यों को लगता है कि अगर जीवन की स्थिति कुछ हद तक भिन्न होती है, तो वे खुद को बचाने के मामले में बेहतर हैं।

इन्हें भी पढ़ें:

आपदाओं का वर्गीकरण | Apda ka vargikaran

  1. प्राकृतिक आपदाएं-इसके अंतर्गत-भूकंप, सुनामी, बाढ़, भूस्खलन, चक्रवात, ज्वालामुखी विस्फोट, वज्रपात आते हैं।
  2. मानव जनित आपदाएं-इसके अंतर्गत -सांप्रदायिक दंगे, आतंकवादी घटनाएं, आगजनी, नियोजित तोड़फोड़, रेल, सड़क एवं वायु दुर्घटनाएं आदि हैं।
  3. अन्य आपदाएं- इसमें – महामारी, औद्योगिक दुर्घटनाएं, यातायात दुर्घटनाएं शामिल हैं।

आपदा प्रबंधन | Aapda prabandhan

एक ऐसी चरणबद्ध प्रक्रिया जो कि आपदा न्यूनीकरण हेतु समाज व उसके पर्यावरण के लिए हितकारी अनेक उपाय सुझाती हो, आपदा प्रबंधन कहलाती है। आपदा प्रबंधन की निम्न 3 स्थितियां होती हैं।

प्राथमिक चिकित्सा ( FIRST AID)

आपदा या किसी दुर्घटना के पश्चात एक पीड़ित को, किसी उपयुक्त डॉक्टरी सहायता मिलने से पहले, जो चिकित्सा सहायता दी जाती है, उसे प्राथमिक चिकित्सा कहते हैं। इसके मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित है-

  • जीवन को बचाए रखना
  • स्थिति को बिगड़ने से रोकना
  • जहां तक संभव हो, स्थिति में सुधार करना

जो व्यक्ति प्राथमिक उपचार कार्य कर रहा हो, उसे सहायता कार्य का पूरा ज्ञान होना चाहिए, दूसरों की सेवा करने में पूर्ण निष्ठा होनी चाहिए और हर स्थिति में शांत रहना चाहिए। ऐसे व्यक्ति को मानव शरीर से संबंधित नाड़ी तंत्र, पाचन तंत्र, स्वास्थ संबंधी तंत्र का ज्ञान होना चाहिए।

पीड़ित को प्राथमिक सहायता देते समय अलग-अलग प्रकार की सहायता की आवश्यकता होती है।उपचार बैग में मुख्य रूप से निम्नलिखित वस्तुएं अवश्य होनी चाहिए – विभिन्न प्रकार की पट्टियां रुई के कुछ पैकेट, छोटी कैंची, डिटॉल या सैवलोन, घोल के पैकेट आदि।

प्राथमिक चिकित्सा किसे कहते हैं?

आपदा या किसी दुर्घटना के पश्चात एक पीड़ित को, किसी उपयुक्त डॉक्टरी सहायता मिलने से पहले, जो चिकित्सा सहायता दी जाती है, उसे प्राथमिक चिकित्सा कहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

downlaod app