Hubstd.in

Big Study Platform

  1. Home
  2. /
  3. Other
  4. /
  5. न्यायपालिका किसे कहते हैं? | परिभाषा, कार्य, प्रकार, महत्व

न्यायपालिका किसे कहते हैं? | परिभाषा, कार्य, प्रकार, महत्व

न्यायपालिका को न्यायपालिका कहा जाता है। न्यायपालिका एक व्यक्ति या संगठन होता है जो एक न्यायिक प्रक्रिया में न्याय सेवक की भूमिका निभाता है। न्यायपालिका अधिकारी होता है,

जो एक न्यायिक प्रक्रिया में न्यायाधीश की भूमिका निभाता है और संगठन या संस्था के साथ संपर्क रखता है। न्यायपालिका का कार्य न्यायालय में होने वाले हर प्रक्रिया में न्याय सेवक की भूमिका निभाना होता है।

न्यायपालिका की परिभाषा (definition of judiciary)

न्यायपालिका अदालतों की प्रणाली है जो राज्य के नाम पर कानून की व्याख्या और लागू करती है। यह विधायी और कार्यकारी शाखाओं के साथ-साथ कई देशों में सरकार की तीन शाखाओं में से एक है। न्यायपालिका किसी देश के कानूनों और संविधान की व्याख्या करने और उन्हें लागू करने और कानूनी विवादों के समाधान के लिए एक मंच प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।

न्यायाधीशों को न्यायपालिका में सेवा देने के लिए नियुक्त या निर्वाचित किया जाता है और वे मामलों की सुनवाई करने, कानून की व्याख्या करने और कानून और प्रस्तुत साक्ष्य के आधार पर निर्णय देने के लिए जिम्मेदार होते हैं। न्यायपालिका कानून के शासन को बनाए रखने और यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि सरकार और उसके अधिकारी कानून की सीमा के भीतर काम करते हैं।

न्यायपालिका के कार्य (Functions of Judiciary)

न्यायपालिका, जिसे न्यायिक प्रणाली या न्यायालय प्रणाली के रूप में भी जाना जाता है, सरकार की एक शाखा है जो समाज के कानूनों की व्याख्या और उन्हें लागू करने के लिए जिम्मेदार है। न्यायपालिका के प्राथमिक कार्यों में शामिल हैं।

  • विवादों को सुलझाना: न्यायपालिका मामले के तथ्यों को सुनकर और निर्धारित करके और किसी निर्णय पर पहुंचने के लिए कानून लागू करके व्यक्तियों, संगठनों और सरकारी एजेंसियों के बीच विवादों का समाधान करती है।
  • व्यक्तिगत अधिकारों की रक्षा: न्यायपालिका व्यक्तियों के अधिकारों और स्वतंत्रता की रक्षा करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, जिसमें निष्पक्ष और निष्पक्ष परीक्षण का अधिकार, भाषण की स्वतंत्रता का अधिकार और निजता का अधिकार शामिल है।
  • कानून की व्याख्या: न्यायपालिका संविधान और अन्य कानूनों और विनियमों सहित कानून की व्याख्या और लागू करने के लिए जिम्मेदार है। इससे यह सुनिश्चित करने में मदद मिलती है कि कानून सभी मामलों में लगातार और निष्पक्ष रूप से लागू होता है।
  • न्याय सुनिश्चित करना: न्यायपालिका यह सुनिश्चित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि कानून तोड़ने वालों को उनके कार्यों के लिए जवाबदेह ठहराकर और पीड़ितों के अधिकारों की रक्षा करके और गलत तरीके से आरोपित लोगों को न्याय दिया जाता है।
  • निरीक्षण प्रदान करना: न्यायपालिका सरकार की अन्य शाखाओं पर एक जाँच के रूप में भी कार्य करती है, यह सुनिश्चित करती है कि वे कानून की सीमा के भीतर कार्य करती हैं और जनता को सत्ता के दुरुपयोग से बचाती हैं।

न्यायपालिका के प्रकार (types of judiciary)

  • संघीय न्यायपालिका: इस प्रकार की न्यायपालिका प्रणाली का उपयोग उन देशों में किया जाता है जहां सरकार की संघीय प्रणाली होती है, जैसे कि संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया। एक संघीय न्यायपालिका प्रणाली में, एक केंद्रीय, राष्ट्रीय स्तर की अदालतें होती हैं जिनके पास संघीय कानून से जुड़े मामलों पर अधिकार क्षेत्र होता है, और राज्य या प्रांतीय स्तर की अदालतें भी होती हैं जिनके पास राज्य या प्रांतीय कानून से जुड़े मामलों पर अधिकार क्षेत्र होता है।
  • एकात्मक न्यायपालिका: इस प्रकार की न्यायपालिका प्रणाली का उपयोग उन देशों में किया जाता है जिनमें सरकार की एकात्मक प्रणाली होती है, जैसे यूनाइटेड किंगडम, फ्रांस और चीन। एकात्मक न्यायपालिका प्रणाली में, एक एकल, केंद्रीकृत न्यायालय प्रणाली होती है जिसका देश में सभी कानूनी मामलों पर अधिकार क्षेत्र होता है।
  • नागरिक कानून न्यायपालिका: इस प्रकार की न्यायपालिका प्रणाली कानूनों और कानूनी सिद्धांतों की एक प्रणाली पर आधारित है जो एक व्यापक कानूनी कोड में संहिताबद्ध हैं। इसका उपयोग जर्मनी, इटली और स्पेन जैसे देशों में किया जाता है।
  • सामान्य कानून न्यायपालिका: इस प्रकार की न्यायपालिका प्रणाली घूरने के निर्णय के सिद्धांत पर आधारित है, या यह विचार है कि भविष्य के मामलों में इसी तरह के मामलों में अदालती फैसलों का पालन किया जाना चाहिए। इसका उपयोग संयुक्त राज्य अमेरिका, कनाडा और यूनाइटेड किंगडम जैसे देशों में किया जाता है।
  • धार्मिक न्यायपालिका: इस प्रकार की न्यायपालिका प्रणाली धार्मिक कानूनों और सिद्धांतों पर आधारित है, और इसका उपयोग उन देशों में किया जाता है जिनके पास आधिकारिक राज्य धर्म है। उदाहरणों में मुख्य रूप से मुस्लिम आबादी वाले देशों में इस्लामी कानून और इज़राइल में यहूदी कानून शामिल हैं।

न्यायपालिका का महत्व (importance of judiciary)

न्यायपालिका सरकार की एक महत्वपूर्ण शाखा है जो कानून की व्याख्या और उसे लागू करने के लिए जिम्मेदार है। यह कानून के शासन को बनाए रखने और यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है कि व्यक्तियों और संगठनों को उनके कार्यों के लिए जवाबदेह ठहराया जाए।

लोकतंत्र में, न्यायपालिका सरकार की एक स्वतंत्र शाखा है जो कार्यकारी और विधायी शाखाओं से अलग है। यह स्वतंत्रता महत्वपूर्ण है क्योंकि यह न्यायाधीशों को राजनीतिक या अन्य बाहरी दबावों से प्रभावित होने के बजाय कानून और मामले के तथ्यों के आधार पर निर्णय लेने की अनुमति देती है।

  • कानून की व्याख्या: न्यायाधीश कानून की व्याख्या करने और मामले के तथ्यों पर इसे लागू करने के लिए जिम्मेदार होते हैं। उन्हें यह निर्धारित करना चाहिए कि कानून का क्या अर्थ है और यह किसी मामले की विशिष्ट परिस्थितियों पर कैसे लागू होता है।
  • विवादों को सुलझाना: न्यायपालिका व्यक्तियों या संगठनों के बीच विवादों को सुलझाने के लिए जिम्मेदार है। समें सिविल विवाद शामिल हैं, जैसे अनुबंध विवाद या व्यक्तिगत चोट के मामले, साथ ही आपराधिक मामले, जहां किसी व्यक्ति पर कानून तोड़ने का आरोप लगाया जाता है।
  • व्यक्तिगत अधिकारों की रक्षा: न्यायपालिका व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा करने और यह सुनिश्चित करने के लिए जिम्मेदार है कि सरकार या अन्य व्यक्तियों या संगठनों द्वारा उनका उल्लंघन नहीं किया जाता है। इसमें नागरिक स्वतंत्रता की सुरक्षा शामिल है, जैसे भाषण की स्वतंत्रता और धर्म की स्वतंत्रता।

कुल मिलाकर, न्यायपालिका कानून के शासन को बनाए रखने और समाज में न्याय के सिद्धांतों को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *